जापानी और मै (छोटा संभाषण)


जापानी और मै !


जापानी : मुझे नालंदा जाना है कैसे जाऊँ ?
भारतीय : ट्रैन पकड़ कर बख्तियारपुर जंक्शन पहुँचिये वहाँ से नालंदा के लिए गाड़ी बुक कर लीजिये
जापानी : स्टेशन का नाम बख्तियारपुर क्यों ?
भारतीय : स्टेशन का नाम बख्तियार खिलजी के नाम पर है
जापानी : ( चौकते हुए ) वही बख्तियार खिलजी जिसने नालंदा विश्वविद्यालय जला दिया और लाखों हिन्दुओं तथा बौद्धों की हत्या कर दी ?
भारतीय : ( शर्म से ) हाँ वही
जापानी : आश्चर्य से, हमलावरों , हत्यारों का ऐसा सम्मान ?
भारतीय : 🙄

इस कांग्रेस के कारण न जाने, कहाँ कहाँ, और कब तक शर्मिंदा होना पड़ेगा, हमें।

#बख्तियारपुर_जंक्शन

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां